बालतोड़ से कहें अलविदा


ऐसा माना जाता है कि जब शरीर के किसी हिस्से से बाल टूट जाता है तो बालतोड़ हो जाता है। हालांकि हर बार ऐसा नहीं होता। बालतोड़ वास्तव में एक तरह का संक्रमण होता है, जिसमें पहले घाव बन जाता है। शुरू में यह फुंसी की तरह दिखता है। जिसमें तीन−चार दिन बाद इसका रंग बदल जाता है और इसमें मवाद भर जाती है। हालंाकि यह समस्या दिखने में आम हो, लेकिन इसके वास्तव में उपचार की जरूरत होती है। तो चलिए आज हम आपको बालतोड़ के इलाज के कुछ घरेलू इलाज के बारे में बता रहे हैं−


हल्दी
हल्दी में एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीबैक्टीरियल जैसे गुण पाए जाते हैं, जिसके कारण बालतोड़ के इलाज के लिए इनका इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके इस्तेमाल के लिए आप हल्दी में थोड़ा पानी मिलाकर पेस्ट बनाएं और उसे प्रभावित स्थान पर लगाएं। इसके अलावा आप गर्म दूध में हल्दी मिलाकर भी पी सकते हैं।
लहसुन 
लहसुन भी बालतोड़ के इलाज के लिए काफी लाभदायक है। दरअसल, इसमें एलिसिन नामक तत्व पाया जाता है, जो एंटीऑक्सीडेंट व एंटीबैक्टीरिया की तरह काम करता है। आप बालतोड़ के इलाज के लिए लहसुन की कलियों को मसलें और फिर इसके पेस्ट को आप बालतोड़ के प्रभावित स्थान पर लगाएं। अंत में इसे साफ पानी से धो लें। आप दिन में कम से कम एक बार इस पेस्ट का इस्तेमाल प्रभावित जगह पर करें।


अरंडी का तेल
आपको शायद पता ना हो, लेकिन अरंडी के तेल का इस्तेमाल बालतोड़ के उपचार के लिए बेहद लाभदायक है। दरअसल, अरंडी के तेल में रिसिनोलिक एसिड पाया जाता है जो एक एंटीइंफ्लेमेटरी की तरह काम करता है। साथ ही अरंडी के तेल में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो संक्रमण को बढ़ने से रोकते हैं। ऐसे में बालतोड़ के लिए इसका इस्तेमाल करना सबसे अच्छा माना जाता है। इसके इस्तेमाल के लिए आप एक कॉटन बॉल में अरंडी का तेल लगाएं और प्रभावित स्थान पर लगाएं। आप दिन में दो से तीन बार इस तेल को प्रभावित स्थान पर लगाएं। वैसे अगर आपके पास अरंडी का तेल नहीं है तो आप इसकी जगह नीम के तेल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
सिकाई आएगी काम
अगर आप बेहद आसान तरीके से बालतोड़ का इलाज करना चाहते हैं तो इसके लिए गर्म पानी की सिकाई करना सबसे आसान व प्रभावी तरीका है। इसके लिए पहले आप एक साफ कपड़े को गर्म पानी में भिगोएं और निचोड़े। अब गर्म कपड़े को प्रभावित स्थान पर रखकर 15−20 मिनट के लिए छोड़ दें। आप दिन में दो से तीन बार गर्म पानी से सिकाई कर सकते हैं।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती