निःशुल्क सिलाई प्रशिक्षण केंद्र और पैडबैंक का हुआ शुभारंभ


रोहतक ।


सामाजिक संस्था विलक्षणा एक सार्थक पहल समिति द्वारा गाँव बहु अकबरपुर में निःशुल्क सिलाई प्रशिक्षण केंद्र और पैडबैंक का शुभारंभ किया गया। सिलाई केंद्र और पैडबैंक का उद्घाटन महम के विधायक बलराज कुंडू के बड़े भाई आजाद कुंडू, हरियाणा के जाने माने लेखक एवं गायक रामकेश जीवनपुर, हट जा ताऊ पाछै नै फेम विकास कुमार और ब्लॉक समिति के चैयरमैन समुंदर सिंह ने किया। वहाँ उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए आज़ाद कुंडू ने कहा कि कपड़े सिलना एक ऐसा रोजगार जिसे एक आम महिला अपने घरेलू कार्य करते हुए अपने ही घर से कर सकती है और अपनी आजीविका चला सकती है। वहीं लोगों को संबोधित करते हुए रामकेश जीवनपुर ने कहा कि देश सेवा और समाज सेवा करने के लिए एक जज्बा चाहिए होता है, समाज सेवा ही सच्ची सेवा है। ब्लॉक समिति महम के चैयरमैन समुंदर सिंह ने कहा कि सैनेटरी पैड हर महिला का हक है, इसके इस्तेमाल से महिलाएं स्वस्थ रह सकती हैं और महीने के उन दर्द भरे दिनों में बीमारियों के खतरे से बची रह सकती हैं। वहीं विकास कुकर ने संस्था के कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि यह संस्था महिलाओं एवं लड़कियों के सर्वांगीण विकास औऱ उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रयासरत है और गांव वालों को आगे आकर इस संस्था को सहयोग करना चाहिए। इस मौके पर विलक्षणा एक सार्थक पहल समिति की संस्थापिका एवं अध्यक्षा डॉ सुलक्षणा अहलावत ने कहा कि उनकी संस्था महिला उत्थान के लिए प्रयासरत है और महिला सशक्तिकरण के लिए प्रतिबद्ध है। गांव में खोला गया सिलाई केंद्र संस्था द्वारा संचालित चतुर्थ सिलाई केंद्र है। पैडबैंक के शुभारंभ पर वहाँ उपस्थित लगभग 50 महिलाओं, लड़कियों को संस्था की तरफ से एक एक पैड का पैकेट मुफ्त में दिया। संस्था के समाजहित के कार्यों को देखते हुए ब्लॉक समिति के चैयरमैन समुंदर सिंह ने 11000 रुपये देने की घोषणा की। कार्यक्रम के अंत में संस्था के पदाधिकारियों ने उपस्थित लोगों को लड्डू का प्रसाद दिया। इस शुभ अवसर पर अनिल कुमार, विकास शर्मा, नन्दकिशोर, अमित सिंह, राकेश, सुभाष बल्हारा, महावीर, दीपक खरकड़ा, पुष्कर शर्मा, मोहित शर्मा, सहित गाँव के मौजिज व्यक्ति एवं महिलाएं मौजूद रहीं।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती