शासन की प्राथमिकता वाले विकास कार्यों के महत्वपूर्ण 18 बिन्दुओं एवं माॅडल डिस्ट्रिक्ट बनाये जाने से सम्बन्धित सूचनाओं की समीक्षा बैठक

उन्नाव 


जिलाधिकारी श्री देवेन्द्र कुमार पाण्डेय की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट स्थित पन्नालाल सभागार में उ0प्र0 शासन के विकास प्राथमिकता कार्यक्रमों से सम्बन्धित 18 बिन्दुओं व जनपद को माॅडल डिस्ट्रिक्ट बनाये जाने से सम्बन्धित सूचनाओं की समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में निराश्रित गोवंश हेतु गोआश्रय स्थल के निर्माण, आयुष्मान भारत योजना, राष्टीयª खाद्य सुरक्षा योजन/राशन कार्ड/ न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खाद्यान क्रय, गन्ना मूल्य भुगतान, आई0सी0डी0एस0 (पोषण अभियान), एक जनपद उत्पाद योजना आदि बिन्दुआंे पर चर्चा की गई।
 जिलाधिकारी महोदय ने सम्बन्धित अधिकारियों को प्रगति बढ़ाने के निर्देश देते हुये कहा कि बिजली, प्रधानमंत्री आवास (ग्रामीण/शहरी) पेंशन समेत विभिन्न विभाग अपनी गति को बढ़ाएं, ताकि लाभार्थी को समय से योजनाओं का लाभ मिल सके। उन्होंने यह भी कहा कि सभी विभागीय योजनाओं की प्रगति धीमी हुई तो संबंधित अधिकारी बख्शे नहीं जाएंगे।
जिलाधिकारी ने विभागीय कार्यों की समीक्षा में प्रगति ग्रेड नीचे होने के कारण नाराजगी जाहिर की। उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को प्रगति में सुधार करने हेतु चेतावनी दी। उन्होंने अधिशाषी अभियन्ता विद्युत को चेतावनी देते हुये कहा कि शासन से निर्धारित विद्युत आपूर्ति तय समय सीमा के अनुसार दी जाये। कहीं से किसी भी प्रकार की शिकायत नहीं आनी चाहिये। विद्युत अभियन्ता को जनपद का ग्रेड में सुधार के सख्त निर्देश दिये। उन्होंने यह भी कहा कि सभी अधिकारी इस बात का ध्यान रखें कि लक्ष्य के अनुरूप कार्य शतप्रतिशत समय से पुर्ण हों।
जिलाधिकारी ने समीक्षा के दौरान शिक्षा गुणवत्ता पर जोर, गोद लिये गांवों की स्थिति, ट्रांन्सफार्मरों के प्रतिस्थापन, गौशालाओं की वास्तविक स्थिति, टूटी हुई नहरों की टेªसिंग की स्थिति पर चर्चा करने के साथ-साथ शौचालय निर्माण,  प्रधानमंत्री शहरी व ग्रामीण आवास, सौभाग्य योजना, उज्ज्वला योजना समेत सभी योजनाओं की बिन्दुवार प्रगति की समीक्षा की। बैठक में टीकाकरण, कपोषण, मिड डे मील समेत अन्य योजनाओं की भी बिन्दुवार समीक्षा तथा जनपद को माॅडल जिला बनाये जाने से सम्बन्धित सूचनाओं की समीक्षा की।
समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि सभी अधिकारी अपने-अपने योजना कार्यों को लेकर सचेत रहें। शासन स्तर पर सभी कार्यों की मानीटरिंग की जा रही है। यदि कहीं पर कोई भी प्रगति खराब मिलती है तो सम्बन्धित अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही होगी।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा0 राजेश कुमार प्रजापति, परियोजना निदेशक,  जिला विकास अधिकारी, सहित समस्त जिला स्तरीय अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहे।  


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले