काम के चलते नाश्ते में न करें लापरवाही वरना पड़ेगा भारी


नाश्ता न सिर्फ दिन का पहला मील होता है, बल्कि यह सबसे अधिक महत्वपूर्ण भी होता है। इससे आपको पूरा दिन काम करने की ऊर्जा मिलती है। वैसे भी दिन की किक स्टार्ट के लिए जरूरी है कि आपका ब्रेकफास्ट भी हेल्दी ही हो। पर अक्सर देखने में आता है कि लोग सुबह ऑफिस जाने की जल्दी में या फिर काम की आपाधापी में अपने नाश्ते के साथ समझौता कर लेते हैं। जो लोग नाश्ता करते भी हैं, उसमें भी कुछ गलतियां कर बैठते हैं। तो चलिए जानते हैं ऐसी ही कुछ गलतियों के बारे में−
सबसे पहले चाय
दिन की शुरूआत में ही कुछ लोगों को चाय या कॉफी पीने की आदत होती है। खासतौर से, भारतीय घरों में अगर सुबह चाय न मिले तो लगता है कि मानो दिन शुरू ही नहीं हुआ हो। लेकिन एक लंबे गैप के बाद शरीर को एक तरल पदार्थ की आवश्यकता होती है और वह पानी ही होना चाहिए। सुबह खाली पेट अगर पानी का सेवन न किया जाए तो इससे कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं होती है। 
बहुत अधिक मीठा या नमक
कुछ लोगों को नाश्ते में अत्यधिक मीठा खाने की आदत होती है। नाश्ते में बहुत अधिक मीठा खाना अच्छा नहीं माना जाता। कुछ लोग चाय से लेकर केक, पेस्टी आदि में काफी अधिक मीठे का सेवन कर लेते हैं। ऐसा करने से बचें। बेहतर होगा कि आप अलग से मीठा लेने की बजाय नेचुरल चीजों से ही मीठे का सेवन करें। वैसे नाश्ते में मीठे की तरह ही नमक का भी अधिक सेवन करने से बचना चाहिए।
अंडे पर निर्भरता
अंडे को एक बेहतरीन ब्रेकफास्ट माना गया है क्योंकि इसमें प्रोटीन का स्तर उच्च होता है। लेकिन अंडे का अत्यधिक सेवन परेशानी खड़ी कर सकता है, खासतौर से गर्मी के मौसम में। बेहतर होगा कि आप अन्य खाद्य पदार्थों जैसे नट्स, पीनट बटर या चिया सीड्स आदि की मदद से प्रोटीन को अपने ब्रेकफास्ट में शामिल करें।
बचें इससे
नाश्ते के समय हर किसी को बेहद जल्दी होती है, इसलिए कुछ लोग जल्दी−जल्दी में नाश्ता करते हैं, जिससे खाना सही तरह से न चबाकर खाने से अपच या पेट में दर्द की समस्या उत्पन्न होती है। वहीं अगर आप नाश्ता कर रहे हैं तो उस समय अपना ध्यान टीवी या मोबाइल आदि में न रखें। इससे आप ओवरईटिंग कर लेंगे या फिर सही ढंग से नाश्ता नहीं करेंगे, जो आपकी सेहत के लिए उचित नहीं है।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती