कंजक्टिवाइटिस से है बचना, तो करें यह आसान से उपाय


कंजक्टिवाइटिस बीमारी एक व्यक्ति से दूसरे में फैलती है, इसलिए अगर आपके आसपास कोई व्यक्ति कंजक्टिवाइटिस से पीडि़त है तो आपको उससे दूरी बनानी चाहिए। कभी भी ऐसे व्यक्ति की आंखों में सीधा ना देखें और ना ही उसकी इस्तेमाल की हुई चीज जैसे रूमाल व तौलिया आदि इस्तेमाल करें।


कंजक्टिवाइटिस आंखों की एक ऐसी बीमारी है, जो बहुत अधिक नुकसान नहीं पहुंचातीं, लेकिन कई बार  इसके कारण कार्निया पर धब्बे हो जाते हैं। इतना ही नहीं, कंजक्टिवाइटिस होने पर व्यक्ति की आंखों में जलन, चुभन, लालिमा व खुजली की समस्या होती है। आंखों की इस बीमारी के कई कारण होते हैं, जैसे वायरस, बैक्टीरिया, एलर्जी या फिर धूल−मिट्टी आदि। कंजक्टिवाइटिस वास्तव में एक संक्रामक बीमारी है और इस बीमारी का एक व्यक्ति से दूसरे को होने का खतरा बना रहता है। लेकिन अगर आप इस बीमारी से बचना चाहते हैं तो आपको कुछ बातों का खास ख्याल रखना होगा। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में−
बीमार व्यक्ति से रहें दूर
चूंकि यह बीमारी एक व्यक्ति से दूसरे में फैलती है, इसलिए अगर आपके आसपास कोई व्यक्ति कंजक्टिवाइटिस से पीडि़त है तो आपको उससे दूरी बनानी चाहिए। कभी भी ऐसे व्यक्ति की आंखों में सीधा ना देखें और ना ही उसकी इस्तेमाल की हुई चीज जैसे रूमाल व तौलिया आदि इस्तेमाल करें। इससे इंफेक्शन फैलने का खतरा कई गुना बढ़ जाता है।
 
यूं रोके फैलने से 
अगर आपको कंजक्टिवाइटिस हो गया है और आप उसे फैलने से रोकना चाहते हैं तो आपको कुछ सावधानी बरतनी चाहिए। जैसे− अपनी आंखों को बार−बार हाथों से ना छुएं और ना ही उसे रगड़ें। 
 
हाथों को साफ रखें। खासतौर से अगर आपने अपनी आंखों को छुआ है तो साबुन व पानी की मदद से हाथों को वॉश करना ना भूलें। इसके अलावा आप अपने चेहरे व आंखों को ठंडे पानी से धोते रहें। इससे आपको काफी आराम मिलेगा।
 
हमेशा एक साफ तौलिए का इस्तेमाल करें और वह किसी को यूज करने के लिए ना दें। आप तौलिए को नियमित रूप से बदलें।
इसे भी पढ़ें: निमोनिया होने पर नजर आते हैं यह लक्षण, ऐसे करें बचाव


अगर हो सके, तो अपने आई कॉस्मेटिक्स जैसे काजल आदि को फेंक दें। साथ ही अपनी आई केयर चीजों जैसे आई डॉप व आई कॉस्मेटिक्स को किसी के साथ शेयर ना करें। 
 
डॉक्टर के परामर्श के बिना कान्टैक्ट लेंस बिल्कुल भी ना पहनें। 
 
अगर बच्चे को कंजक्टिवाइटिस हुआ है तो आप उसे कुछ दिन के लिए घर पर ही रहने दें। इससे उसे भी आराम मिलेगा और दूसरों को भी यह बीमारी नहीं फैलेगी। 
 
आप आंखों को लेकर अगर हाईजीन का ध्यान रखेंगे तो बेहद जल्द इस समस्या से निजात पा सकते हैं।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती