विश्व दाल दिवस के अवसर पर जनपद स्तरीय कृषक गोष्ठी का आयोजन


उन्नाव


जिलाधिकारी श्री देवेन्द्र कुमार पाण्डेय जी ने कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। विश्व दाल दिवस के अवसर पर जनपद स्तरीय कृषक गोष्ठी का आयोजन पन्ना लाल सभागार कलेक्ट्रेट उन्नाव में किया गया। उन्होने कृषकों को मूॅग मिनीकिट का निःशुल्क वितरण किया। जिलाधिकारी महोदय ने अपने सम्बोधन में कहा कि अपने भोजन में दलहनी फसलों यथा अरहर, उर्द, मूॅग, मसूर, चना एवं मटर को अवश्य ही सम्मिलित करें। मानव की कोशिकाओं के सर्वांगीण विकास के लिये भोजन में प्रोटीन का होना आवश्यक है जो दाल से प्रचुर मात्रा में प्राप्त हो जाता है। जनपद में 279118 हे0 कुल फसलाच्छादन का क्षेत्र है जिसमे से 58228 हे0 क्षेत्र में दलहनी फसलें उगायी जाती है। इसमे वृद्वि होना अत्यावश्यक है। दलहनी फसलों को उगाने से भूमि की उर्वरा शक्ति में भी सुधार होता है इसमे कम पानी और कम निवेश से ही किसान भाई अधिक लाभ प्राप्त कर सकते है। उन्होने बताया कि जनपद के सभी किसान भाइयों को किसान सम्मान निधि योजना से जोड़ने एवं उन्हें किसान क्रेेडिट कार्ड उपलब्ध कराने के लिये दिनांक 12 से 27 फरवरी 2020 तक अभियान चलाया जा रहा है जिसमे सभी विभाग के क्षेत्रीय कार्मिकों द्वारा कृषकों को बैंक शाखा में जाकर आवेदन भरने के लिये सहयोग भी किया जायेगा। किसान भाई कृषि विभाग एवं बैंक शाखा में जाकर योजनाओं का लाभ प्राप्त करें।


कार्यक्रम में डा0 नन्द किशोर, उप कृषि निदेशक उन्नाव, श्री कुलदीप कुमार मिश्रा, जिला कृषि अधिकारी उन्नाव, श्री विकास शुक्ला, जिला कृषि रक्षा अधिकारी उन्नाव, सलाहकार एवं तकनीकी सहायक राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन आदि के साथ-साथ सहयोगी एवं प्रगतिशील कृषक उपस्थित रहे। उप कृषि निदेशक उन्नाव ने अपने सम्बोधन में कहा कि मूॅग के 200 मिनीकिट
(प्रति मिनीकिट 4 कि0ग्रा0) प्राप्त हुये है जिन्हें सि0सिरोसी, नवाबगंज, बीघापुर, बिछिया में कृषकों को निःशुल्क वितरित किया गया है उन्हांेने यह भी बताया कि मूॅग बीज विराट उन्नत प्रजाति का है जिसकी पैदावार 12-15 कु0/हे0 होगी। श्री कुलदीप कुमार मिश्रा, जिला कृषि अधिकारी उन्नाव ने अपने सम्बोधन में कहा कि किसान भाई अधिक से अधिक क्षेत्र में बुवाई के लिये 50 प्रतिशत अनुदान पर बीज प्राप्त कर सकते हैं।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले