1980 की फिल्म 'द बर्निंग ट्रेन' का बनेगा रीमेक, जैकी भगनानी और जूनो चोपड़ा ने मिलाया हाथ


एक्टर-प्रोड्यूसर जैकी भगनानी और बीआर फिल्म्स के क्रिएटिव प्रोड्यूसर जूनो चोपड़ा मिलकर 1980 में रिलीज हुई क्लासिकल फिल्म 'द बर्निंग ट्रेन' का रीमेक बनाएंगे। इस फिल्म का निर्देशन रवि चोपड़ा ने किया था और अब उनके बेटे ही इसका रीमेक बनाएंगे। इस बारे में बुधवार को फिल्म ट्रेड एनालिस्ट तरन आदर्श ने सोशल मीडिया पर जानकारी दी। फिलहाल फिल्म के डायरेक्टर और स्टारकास्ट का नाम तय नहीं हुआ है। ये फिल्म साल के अंत तक फ्लोर पर चली जाएगी।


फिल्म के बारे में बताते हुए भगनानी ने कहा, 'द बर्निंग ट्रेन एक ऐसी फिल्म है जिसे देखते हुए मैं बड़ा हुआ हूं और मुझे यकीन है कि हम में से बहुतों ने ऐसा किया है। यह बॉलीवुड की एक क्लासिक है और मैं अपने प्रिय मित्र जूनो के साथ काम करने और उस जादू को रिक्रिएट करने को लेकर रोमांचित हूं, जो रवि चोपड़ा सर ने सालों पहले किया था। फिल्म की आत्मा को जीवित रखने के लिए हम अपना सब कुछ देने को तैयार हैं।' 


जल्द होगी स्टारकास्ट की घोषणा


वहीं इस बारे में जूनो चोपड़ा ने कहा, 'इस जुड़ाव को लेकर मैं बहुत उत्साहित हूं। द बर्निंग ट्रेन हमेशा से मेरी पसंदीदा फिल्म रही है। मेरे पिता ने इसका निर्देशन किया था। मैं फिल्म का अपना वर्जन बनाने  को लेकर बेहद उत्साहित हूं। फिलहाल हम डायरेक्टर और लीड कास्ट को साइन करने की आखिरी स्थिति में हैं, जिसके बारे में हम जल्दी ही घोषणा करेंगे।' 'इत्तेफाक' (1969) और 'पति, पत्नी और वो' (1978) के बाद 'द बर्निंग ट्रेन' चोपड़ा फिल्म्स का तीसरा रीमेक होगा। इसके अलावा जूनो 'बरेली की बर्फी' को भी बना चुके हैं।


फिल्म में दिखाई गई थी जलती हुई ट्रेन की कहानी


'द बर्निंग ट्रेन' जैसा कि नाम से ही जाहिर है, फिल्म की कहानी 'सुपर एक्सप्रेस' नाम की एक ट्रेन के इर्द-गिर्द थी। जिसमें अपने पहले ही सफर के दौरान आग लग जाती है। ये एक एक्शन-थ्रिलर थी जिसे अपने समय से आगे की फिल्म माना जाता है। फिल्म का निर्देशन रवि चोपड़ा ने किया था जबकि बीआर फिल्म्स इसके निर्माता थे।  इस फिल्म में धर्मेंद्र, हेमा मालिनी, विनोद खन्ना, परवीन बॉबी, जीतेंद्र, नीतू सिंह, विनोद मेहरा और डैनी जैसे कलाकार नजर आए थे। 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती