सिंगर श्वेता पंडित ने इटली से सुनाई आपबीती, कहा-एक महीने से कमरे से बाहर नहीं निकली, यहां सिर्फ सायरन की आवाज आती है'


बॉलीवुड सिंगर श्वेता पंडित अपने इटालियन मूल के पति इवानो फुच्ची के साथ इटली में रहती हैं। इटली में कोरोनावायरस अपनी चरम सीमा पर है और यहां अभी तक इसकी वजह से 8000 से ज्यादा जानें जा चुकी हैं। वायरस के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए इटली में लॉकडाउन किया जा चुका है। ऐसे में श्वेता पंडित भी पति के साथ इंडिया नहीं लौट पाईं और इस वक्त होम आइसोलेशन में अपना समय काट रही हैं। श्वेता ने इस दौरान का अनुभव अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर किया है। उन्होंने एक वीडियो शेयर कर इटली के मौजूदा हालात की भी चर्चा की है।


एक महीने से नहीं निकलीं बाहर: श्वेता ने वीडियो में कहा, दोस्तों मैं खुद पिछले एक महीने से अपने कमरे से बाहर नहीं निकली हूं, और यह उससे पहले जब यहां की सरकार ने लॉकडाउन घोषित नहीं किया था। क्योंकि जब हमें पता चला कि एक ऐसी बीमारी यहां फैल चुकी है, जिसका हमें पता भी नहीं है कि यह कब हुई और किससे मिलने से हुई और यह एक साधारण सी सर्दी, जुखाम है या कुछ और।


जब तक आदमी अपने डॉक्टर के पास जाता है, अस्पताल जाता है,तब उसे पता चलता है कि उसे आईसीयू की जरूरत है, ऑक्सीजन की जरूरत है और कुछ दिन बाद उसकी मृत्यु हो जाती है। कोरोना से इटली में हालात बुरे हैं और कई जानें जा चुकी हैं। यहां सुबह मैं जब उठती हूं तो सिर्फ सायरन की आवाज सुनाई देती है। भगवान की दया से मैं ठीक हूं और डॉक्टर्स द्वारा सुझाई गई सभी सावधानियां बरत रही हूं। मैं होली के समय इंडिया आने का प्लान बना रही थी लेकिन वहां भी कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते रिस्क नहीं लिया। मेरे माता-पिता और परिवार के अन्य सदस्य इंडिया में हैं और मुझे उनकी बहुत याद आती है। यह अच्छा हुआ कि इंडिया में 21 दिन का लॉकडाउन घोषित कर दिया गया है। 


कई फिल्मों में कर चुकीं सिंगिंग: श्वेता पंडित ने 'मोहब्बतें', 'साज', 'दिल क्या करे', 'राजू चाचा' और बाद में 'नई पड़ोसन', 'जूली', 'कभी अलविदा न कहना', 'वेलकम बैक', 'यमला पगला दीवाना' 'सत्याग्रह', 'हाईवे' और 'गुड्डू की गन' जैसी कई फिल्मों में गाने गाए हैं। हिंदी के अलावा, वे तमिल, तेलुगु और पंजाबी में भी गाती हैं। श्वेता को अनिल कपूर के टीवी शो '24' में बतौर एक्ट्रेस देखा जा चुका है। इसके अलावा उन्होंने बिजॉय नांबियार की फिल्म 'डेविड' में भी काम किया है। 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती