आपदा के समय जनपद वासियों की सभी समस्यायें दूर हो


उन्नाव


नोवल कोरोना वायरस जैसी संक्रमण को रोकने के उपाय व जनपद वासियों को इस आपदा के समय कोई अनावश्यक परेशानी न हो, उनकी सभी समस्याओें का ध्यान दिया जाये। जनपद का कोई  भी पात्र व्यक्ति भूखा न रहें, आवश्यक सेवाओं की आपूर्ति आदि के सम्बन्ध में आज प्राविधिक शिक्षा मंत्री उ0 प्र0 शासन/प्रभारी मंत्री उन्नाव, श्रीमती कमल रानी ने कोविड-19 जैसे महामारी से निपटने के लिए अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की।
प्रभारी मंत्री ने कहा कि कोविड-19 महामारी के नियन्त्रण हेतु लागू  लाॅकडाउन में जनपद में जो मजदूर फैक्ट्रियो में कार्य कर रहे थे सोशल डिस्टेंसिंग बनाते हुए कार्य करते रहे ताकि उनके जीवन का भरण-पोषण होता रहे, उन्होंने कहा गेहॅू खरीद का समय चल रहा है। किसी भी तरह की लापरवाही व कालाबाजारी नही होनी चाहिए। जिस पर जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद में 71 क्रय केन्द्र खोले गये हैं। जहां पर सभी जगहों पर गेहूं खरीद का कार्य चल रहा है। गेंहूं समर्थन मूल्य 1925 रूपये प्रति कुन्टल, इस वर्ष जनपद का गेंहू क्रय का लक्ष्य 66 हजार एम0टी0 निर्धारित किया गया है, जिसकी पूर्ति हेतु जनपद की विभिन्न सरकारी क्रय संस्थाओं के माध्यम से गेहंू क्रय केन्द्र एवं उसी के समीप कृषक पंजीकरण प्रक्रिया प्रारम्भ की गई है। मण्डियों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन किया जा रहा है। इसी तरह जनपद स्तर पर दो विशाल कम्यूनिटि सेन्टर खोले गये हैं जहां पर एक टाइम में लगभग 15000 डिब्बे बाटे जा रहे हैं, जितनी आवश्यकता होती है सभी को बटवाया जा रहा है। कन्ट्रोल रूम में जो भी शिकायते आती है उन्हे तत्काल दूर किया जाता है। खाना/खाद्य सामग्री जैसी आवश्यकता होती है सम्बन्धित को तत्काल भेजे जा रहे है। लाॅकडाउन एरिया में डोर टू डोर खाद्य सामग्री/दूध/ब्रेड़ आदि सामग्री रोजा अफ्तार को भी ध्यान में रखते हुए किया जा रहा है। खाद्य सामग्री की उपलब्धता में कभी नही आने दी जायेगी वार्ड वार होम डिलीवरी सुनिश्चित की जा रही है। काला बाजारी पर दो/सोशल मीडिया को मिलाकर 13-14 एफ0आई0आर किये गये है।
जिलाधिकारी ने यह भी बताया कि सभी उप जिलाधिकारी/क्षेत्रा अधिकारी अपने-अपने क्षेत्रो का भ्रमण कर धार्मिक गुरूओं सें वार्ता कर रहे है ताकि कही से कोई विवाद या रोजा इफ्तारी में परेशानी का सामना न करना पडे़। पशुओं को चारा हेतु भूसा बैंक मे तेजी से कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आरोग्य सेतु नामक आधुनिक ऐप लगभग डेढ लाख लोगो ने ऐप डाउनलोड किया है।
बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री विक्रान्त वीर, मुख्य विकास अधिकारी डा0 राजेश कुमार प्रजापति, उप जिलाधिकारी सदर, मुख्य चिकित्साधिकारी, डा0 आशुतोष कुमार, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 आर0 के0 गौतम, डा0 तनमय कक्कड़, उप निदेशक सूचना, सहित अन्य सदस्य आदि उपस्थित रहे।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन