निराश्रित/बेसहारा गोवंशों को खाने हेतु भूसा/हरा चारा, राशन अथवा अन्य सामग्री दिये जाने के लिये जिलाधिकारी ने दिए निर्देश

उन्नाव


जैसा कि विदित है कि वर्तमान समय में पूरा विश्व कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिये 03 मई, 2020 तक सरकार द्वारा लाॅकडाउन घोषित किया गया है। जिलाधिकारी श्री रवीन्द्र कुमार द्वारा जन सामान्य को अवगत कराया है कि उ0प्र0 गो संरक्षण एवं सम्वर्धन योजना के अन्तर्गत जनपद में 151 अस्थायी गोवंश आश्रय स्थल एवं वृहद गो संरक्षण केन्द्र संचालित है जिसमें लगभग 7054 निराश्रित/बेसहारा गोवंश संरक्षित किये गये हैं। जनपद में संरक्षित निराश्रित/बेसहारा गोवंश के खाने के लिये भूषा बैंक हेतु  भूसा/हरा चारा,/चूनी-चोकर आदि की व्यवस्था कराये जाने हेतु सभी का सहयोग अपेक्षित है।
 उ0प्र0 सरकार जिला प्रशासन मूकबधिर गोवंश के प्रति काफी संवेदनशील है और उनका सुचारू रूप से भरण-पोषण कराया जा रहा है, परन्तु मूकबधिर गोवंश के भरण-पोषण के कार्य में जन सामान्य की सहभागिता नितान्त आवश्यक है। वर्तमान समय में कृषक द्वारा रवी फसल की कटाई/मड़ाई का कार्य किया जा रहा है। शासन स्तर से संरक्षित निराश्रित/बेसहारा गोवंशों को साल भर खाने हेतु भूसा का स्टोर कराया जाना है, जिसमें जन सामान्य की सहभागिता अपेक्षित है।
जिलाधिकारी ने जनपद में संरक्षित निराश्रित/बेसहारा गोवंश के खाने के लिये भूसा/हरा, चारा/चूनी-चोकर उपलब्ध कराये जाने हेतु जनपद के मा0 जन प्रतिनिधियों, सरकारी संगठनों, प्रतिष्ठित व्यक्तियों, औद्योगिक प्रतिष्ठान, गैर सरकारी संगठन एवं धमार्थ संस्थान, कृषकों/पशुपालकों, अन्य सम्मानित जनपद वासियों से अधिक से अधिक मात्रा में भूसा/हरा चारा, राशन अथवा अन्य सामग्री  नजदीकी स्थायी/अस्थायी गोवंश आश्रय स्थलों पर दान देने हेतु अपील/अनुरोध करते हुये अस्थायी गोवंश आश्रय स्थलो पर भूसा बैंक (भूसा गोदाम) की स्थापना कराते हुये संरक्षित गोवंश के साल भर खाने हेतु भूषा भण्डारण की कार्यवाही 07 दिवस में सुनिश्चित कराते हुये कार्य प्रगति की सूचना मुख्य पशुचिकित्साधिकारी उन्नाव के माध्यम से अधोहस्ताक्षरी को उपलब्ध करा दिया जाये।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती