कोई भी किसान खाली हाथ वापस नहीं लौटेगाः  जिलाधिकारी

उन्नाव 


जिलाधिकारी श्री रवीन्द्र कुमार व पुलिस अधीक्षक श्री विक्रांत वीर ने कोविड-19 कोरोना वायरस नामक महामारी से संक्रमित/संदिग्ध व्यक्तियों को निजात दिलाने हेतु सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र औरास को स् 1 बनाने हेतु निरीक्षण किया, जिसमें उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी, डॉ आशुतोष कुमार को मरीजों, चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टाफ के लिए समस्त आवश्यक प्रतिबंध कराने हेतु निर्देशित किया, जिससे कि किसी भी मरीज, डॉक्टर या पैरामेडिकल स्टाफ को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े। मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा जिलाधिकारी महोदय को अवगत कराया गया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र औरास में मरीजों हेतु 30 बेड की सुविधा है साथ ही साथ पानी, लाइट आदि संबंधित आवश्यक सामग्रियों की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जा रही है। जिलाधिकारी ने परिसर में साफ-सफाई आदि की व्यवस्था देखी तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी को प्रतिदिन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की साफ-सफाई कराने व सैनिटाइजेशन का कार्य कराने हेतु निर्देशित किया। इस दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी, डॉ आशुतोष कुमार, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, डॉक्टर आर०के०गौतम सहित समस्त संबंधित उपस्थित थे।
तत्पश्चात जिलाधिकारी ने राजकीय इंटर कॉलेज में बने क्वॉरेंटाइन स्थल का औचक निरीक्षण किया तथा संबंधित अधिशासी अधिकारी से मोहल्ला निगरानी समिति के बारे में जानकारी हासिल की। उन्होंने कहा कि नगर पंचायत में बाहर से कोई भी व्यक्ति अगर बिना बताए आता है तो उसे शेल्टर होम में ही रखा जाए तथा उसके बाद उसका प्रॉपर चेकअप कराने के पश्चात् ही उसे उसके घर भेजा जाए। इस पर अधिशासी अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि 17 लोग इस नगर पंचायत में बाहर से आए हुए हैं। इस पर जिलाधिकारी ने आने वाले लोगो को सीधे उनके घरों में ना जा कर शेल्टर होम में ले जाने के  अधिशासी अधिकारी को निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि आशा, सभासद की सुपुर्दगी में निगरानी कर सभी को साफ सफाई के आवश्यक दिशा निर्देश दिए जाएं कि साबुन से हाथों को अच्छी तरह धुलें, मास्क का प्रयोग करें आदि। उन्होंने कहा कि जो भी व्यक्ति होम क्वॉरेंटाइन हैं उनके घर-घर जाकर जानकारी लें कि उनके द्वारा निर्देशों का पालन किया जा रहा है अथवा नहीं। उन्होंने यह भी कहा जो भी व्यक्ति आदेशों का उल्लंघन करता पाया जाएगा तो उस पर कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि पानी, लाइट कनेक्शन व जनरेटर, बल्ब, पंखा, शौचालय आदि की व्यवस्था जल्द से जल्द सुनिश्चित करें।
तत्पश्चात जिलाधिकारी ने साधन सहकारी समिति में बने गेहूं क्रय केंद्र का औचक निरीक्षण किया। वहां पर व्यवस्थाएं सुनिश्चित नहीं पाई गईं जिस पर जिलाधिकारी ने संबंधित को निर्देशित करते हुए कहा कि कोई भी किसान खाली हाथ नहीं जाना चाहिए, किसानों की मदद करना हमारा कर्तव्य है, खरीद ज्यादा से ज्यादा होनी चाहिए। किसी भी अवस्था में किसानों को निराशा महसूस नहीं होनी चाहिए। इसी दौरान जिलाधिकारी महोदय ने किसानों से दूरभाष पर संपर्क करते हुए खरीद व बिक्री के बारे में जानकारी प्राप्त की, कितनी खरीद यहां पर अभी तक हुई है। उन्होंने किसानों से पूछा कि अभी तक आपने कितना गेहूं बेचा है, बिक्री करने में कोई समस्या तो नहीं हुई है, किसी के द्वारा परेशान तो नहीं किया जा रहा है। उन्होंने किसानों से कहा कि अगर किसी भी प्रकार की समस्या उत्पन्न होती है तो हमें अवगत अवश्य कराएं। जिलाधिकारी ने संबंधित को निर्देशित करते हुए कहा कि जितने भी किसान यहां आएंगे उनसे उसी दिन खरीदारी करनी है। कोई भी किसान खाली हाथ वापस नहीं जाना चाहिए।
जिलाधिकारी ने क्षेत्र पंचायत, औरास का भी निरीक्षण किया जहां पर ए0डी0ओ0 पंचायत, शैलेंद्र कुमार व वरिष्ठ सहायक, विवेक कुमार अनुपस्थित पाए गए तथा एडवांस में उनकी उपस्थिति दर्ज थी इस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुए संबंधित को कड़े निर्देश दिए। क्षेत्र पंचायत औरास में बने कंट्रोल रूम का निरीक्षण करने के दौरान कंट्रोल रूम में चार्ट उपलब्ध न होने तथा कंट्रोल रूम का कोई भी फोन नंबर उपलब्ध न होने, पूरा स्टाफ उपस्थित न होने पर, शिकायत रजिस्टर उपलब्ध न होने पर एवं निगरानी समिति की बैठक में जिलाधिकारी द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन खंड विकास अधिकारी, औरास द्वारा न करने पर खंड विकास अधिकारी औरास को कड़ी चेतावनी देते हुए उनका वेतन रोकने तथा स्पष्टीकरण करने को कहा। जिलाधिकारी ने खंड विकास अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि स्वयं कंट्रोल रूम में बैठकर सारे ग्राम प्रधानों से व्यक्तिगत रूप से बात करके रिपोर्ट तैयार कर मुझे अवगत कराएं वरना कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाएगी।
जिलाधिकारी ने थाना औरास का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान थाना कार्यालय, सी0सी0टी0एन0एस0 कार्यालय में अभिलेखों को चेक किया गया। बैरक व मेस व्यवस्था को जांचा गया तथा थाना परिसर में सैनिटाइजेशन व साफ-सफाई व्यवस्था को परखा गया। पुलिस अधीक्षक  ने थाना प्रभारी औरास को निर्देशित किया कि सभी पुलिसकर्मियों को मास्क व हैंड ग्लव्स का प्रयोग अवश्य करने हेतु निर्देशित करें। बैरक व कार्यालय में सोशल डिस्टेंस का पालन अवश्य किया जाए एवं हैंड सैनिटाइजर के प्रयोग के संबंध में आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए।
निरीक्षण के दौरान पुलिस अधीक्षक महोदय के साथ-साथ समस्त संबंधित अधिकारी एवं कर्मचारी गण उपस्थित थे।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले