सिल्क के कपड़ों को धोने का सही तरीका

सिल्क के कपड़ों की एक अलग ही बात होती है। सिल्क की साडि़यों का क्रेज तो हर महिला को होता है, लेकिन एक सच यह भी है कि यह काफी डेलिकेट और महंगे होते हैं और इसलिए इन्हें एक अलग केयर की जरूरत होती है। जब सिल्क फैब्रिक के कपड़ों को धोने की बात आती है तो यकीनन हमेशा डाई क्लीनिंग का ही ख्याल आता है। लेकिन ऐसा जरूरी नहीं है कि आप हर बार बाजार से सिल्क के कपड़ों की डाई क्लीनिंग करवाकर पैसे खर्च करें। इन्हें घर पर भी थोड़ी सावधानी के साथ धोया जा सकता है। तो चलिए जानते हैं सिल्क के कपड़ों को धोने का सही तरीका−
ऐसे धोएं स्टेप बाई स्टेप


सिल्क के कपड़ों को धोने के लिए आप एक बड़ी बाल्टी या टब में ठंडा पानी भरें और उसमें सिल्क के कपड़ों को पूरी तरह से डुबो दें। सिल्क के कपड़ों को धोते हुए आपको अपने डिटर्जेंट पर भी ध्यान देना होगा। इसके लिए आप हाई−क्वालिटी लिक्विड डिटर्जेंट लें और फिर कम मात्रा में इसे पानी में डालकर मिक्स करें और दो−तीन मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें। अब आप सिल्क के कपड़ों से गंदगी हटाने के लिए उसे पानी में चार−पांच बार उपर−नीचे करें। अब कपड़े को बाल्टी से बाहर निकालें और ठंडे पानी से तब तक धोएं, जब तक उसमें मौजूद डिटर्जेंट अच्छी तरह निकल ना जाए। 


अब एक टॉवल लें और उस पर अपने सिल्क के कपड़ों को रखकर अतिरिक्त पानी को सोखें। कभी भी सिल्क के कपड़ों को मोड़कर निचोड़ने की कोशिश ना करें, ऐसा करने से आपके सिल्क के कपड़ों को नुकसान हो सकता है।


अब आप अपने सिल्क के कपड़ों को सुखाने वाली रैक पर लटकाएं। हालांकि इस बात का ध्यान रखें कि आप कभी भी उसे सीधे धूप में ना सुखाएं।
इन स्टेप्स को अपनाकर आप सुरक्षित तरीके से अपनी सिल्क की साडि़यों से लेकर ब्लाउज, सूट, पजामा, चादर व तकिए आदि को धो सकती हैं।


इसका रखें ध्यान


जब आप सिल्क फैब्रिक को धोती हैं तो उसके लिए आपको कुछ छोटी−छोटी बातों का ध्यान रखना चाहिए। मसलन, कपड़ों को धोने से पहले उसके वॉश केयर निर्देशों को जरूर पढ़ें। इसके अलावा, आप कभी भी सिल्क कपड़ों को धोने से पहले उसकी कलर टेस्टिंग जरूर करें। आपको यह जरूर चेक करना चाहिए कि सिल्क फैब्रिक से कलर निकल रहा है या नहीं। साथ ही सिल्क फैब्रिक को धोते हुए हमेशा ठंडे पानी का ही इस्तेमाल करें।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती